अपनी मनपसंद पुस्तक यहाँ खोजें

मधुमक्खी पालन Madhumakkhi Palan

Q.मधुमक्खी पालन में कितना खर्चा आता है?

Ans.मधुमक्खी पालन शुरू करने में कितनी लागत / मधुमक्खी पालन की लागत शुरुआती दौर में पांच कलोनी (पांच बाक्स) से शुरू कर सकते है एक बॉक्स में लगभग में चार हजार रुपए का खर्चा आता है तो अगर आप पांच ऐसे बॉक्स लेंगे तो बीस हजार रुपए का खर्चा आता है। इनकी संख्या को बढ़ाने के लिए समय समय पर इनका विभाजन कर सकते हैं।

Q.मधुमक्खी पालन का सबसे अच्छा समय कौन सा है?

Ans.प्रशिक्षण शिविर में कहा कि मधुमक्खी पालन शुरू करने के लिए उचित समय अक्तूबर और नवंबर का महीना सबसे उचित है क्योंकि मधुमक्खियों को फूलों की आवश्यकता होती है जिससे वे मकरंद व पराग एकत्रित करके शहद बनाती हैं। मधुमक्खी पालन कम से कम 10 डिब्बों/कालोनियों से शुरू करना चाहिए।

Q.मधुमक्खी पालने में क्या कष्ट होता है?

Ans.यह मक्खी लगभग 1200 मी. की ऊँचाई तक पायी जाती है व बड़े वृक्षों, पुरानी इमारतों इत्यादि पर ही छत्ता निर्मित करती हैं। अपने भयानक स्वभाव व तेज डंक के कारण इसका पालना मुश्किल होता है। इसमें वर्षभर में 30-40 किलो तक शहद प्राप्त हो जाता है।

Q.मधुमक्खी पालन कैसे करें?

Ans.मधुमक्खी पालन कैसे शुरू करें? (How to Start Bee Farming Business in Hindi)

  1. प्रशिक्षण एवं व्यवहारिक ज्ञान प्राप्त करें (Get Training of Honey Bee Farming) …
  2. मधुमक्खी पालन के लिए साईट का चयन करें …
  3. उपकरण बनवाएं या खरीदें (Tools for Honey bee Farming) …
  4. परागण का प्रबंध करें …
  5. मधुमक्खियों एवं उत्पाद को कीट एवं रोगों से मुक्त रखें

Q.मधुमक्खी शहद कितने दिन में तैयार करती है?

Ans.दि छत्ते के बीच के हिस्से चाकू से चीर दिया जाए, तो 15 दिन में शहद फिर तैयार हो जाता है

Q.मधुमक्खी का शहद कितने रुपए किलो है?

Ans.बाजार में भले ही शहद 500 से 1000 रुपए किलो मिलता है लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य ही होगा कि शहद की कीमत एक लाख रुपए प्रति किलोग्राम तक होती है। खास तौर पर अगर शहद ‘रॉयल जेली’ हो तो आपको एक किलो शहद खरीदने के लिए 25 लाख रुपए चुकाने पड़ेंगे।

Q.मधुमक्खी शहद के नए स्रोत का पता एक दूसरे को कैसे देती है?

Ans.संक्षेप में, “संचरण मधुमक्खियां” फूलों का रस चूसकर इसे अपने दूसरे विशेष पेट में रखती हैं (जो विशेष रूप से शहद रखने के लिए बना होता है) और उड़कर वापस छत्ते पर आती हैं। छत्ते पर आने के बाद, वे इस रस को “चबाने वाली” मधुमक्खियों को देती हैं। चबाने वाली मधुमक्खियां रस इकट्ठा करती हैं और इसे लगभग 30 मिनट तक चबाती हैं।

Q.मधु उत्पादन के लिए प्रयुक्त मधुमक्खी में कौन से ऐच्छिक गुण होने चाहिए?

Ans.मधुमक्खी में मधु उत्पादन क्षमता अधिक होनी चाहिए। 2) वह मधुमक्खी जो कम डंक मारे, जिससे मधु प्राप्त करना सरल हो। 3) अपने निर्धारित छत्ते में काफी समय तक रहे। 4) जिनका संकरण अच्छा हो

Q.मधुमक्खी के डंक में कौन सा अम्ल होता है?

Ans.फॉर्मिक अम्ल की संरचना फॉर्मिक अम्ल एक कार्बनिक यौगिक है। यह लाल चींटियों, शहद की मक्खियों, बिच्छू तथा बर्रों के डंकों में पाया जाता है। इन कीड़ों के काटने या डंक मारने पर थोड़ा अम्ल शरीर में प्रविष्ट हो जाता है, जिससे वह स्थान फूल जाता है और दर्द करने लगता है।

Q.मधुमक्खी पालन कब किया जाता है?

Ans.इसकी उम्र औसतन २-३ वर्ष होती है। कमेरी/श्रमिक : यह अपूर्ण मादा होती है और मौनगृह के सभी कार्य जैसे अण्डों बच्चों का पालन पोषण करना, फलों तथा पानी के स्त्रोतों का पता लगाना, पराग एवं रस एकत्र करना , परिवार तथा छतो की देखभाल, शत्रुओं से रक्षा करना इत्यादि इसकी उम्र लगभग २-३ महीने होती है।

Q.मधुमक्खी पालन व्यवसाय को प्रोत्साहित करने के लिए कौन सा विभाग मदद करता है?

Ans.इस व्यापार के लिए भारत सरकार का एमएसएमई विभाग आपकी मदद करता है. इस मंत्रालय के खादी एंड विलेज इंडस्ट्री कमीशन के तहत कई योजनायें चलती है, जिनके अंतर्गत मधुमक्खी पालन व्यवसाय को प्रोत्साहित किया जाता है. सरकार द्वारा प्राप्त मदद निम्नलिखित रूप में होती है.

Q.मधुमक्खी पालन का सबसे अच्छा समय कौन सा है?

Ans.प्रशिक्षण शिविर में कहा कि मधुमक्खी पालन शुरू करने के लिए उचित समय अक्तूबर और नवंबर का महीना सबसे उचित है क्योंकि मधुमक्खियों को फूलों की आवश्यकता होती है जिससे वे मकरंद व पराग एकत्रित करके शहद बनाती हैं। मधुमक्खी पालन कम से कम 10 डिब्बों/कालोनियों से शुरू करना चाहिए।

Q.मधु उत्पादन के लिए प्रयुक्त मधुमक्खी में कौन से ऐच्छिक गुण होने चाहिए?

Ans.मधुमक्खी में मधु उत्पादन क्षमता अधिक होनी चाहिए। 2) वह मधुमक्खी जो कम डंक मारे, जिससे मधु प्राप्त करना सरल हो। 3) अपने निर्धारित छत्ते में काफी समय तक रहे। 4) जिनका संकरण अच्छा हो।

Q.मधुमक्खी की कितनी प्रजाति होती है?

Ans.20 हज़ार से अधिक प्रजातियां

पहली बात तो यही कि मधुमक्खियों की 20 हज़ार से ज़्यादा प्रजातियां हैं. इनमें शहद बनाने वाली मधुमक्खी सामान्य तौर पर प्रचलित है. वे कई रंगों की होती है

Q.रानी मधुमक्खी कितने समय तक जीवित रह सकती है?

Ans.छत्ते में रहने वाली केवल रानी मधुमक्खी ही अंडे देती है. यह एक दिन में 2000 से भी ज्यादा अंडे देती है. गर्मियों के समय प्रजनन के समय ये संख्या 2500 तक भी पहुंच सकती है. मधुमक्खी का जीवन यूं तो अधिकतम एक महीने का होता है लेकिन मधुमक्खियों की रानी कई साल तक जीवित रह सकती है.

Q.मधुमक्खी काटने से क्या फायदा होता है?

Ans.मधुमक्खी के डंक से निकला जहर गठिया के लिए काफी लाभप्रद है। एक शोध से पता चला है कि मधुमक्खी के डंक के जहर के साथ एक रासायनिक पदार्थ मिलाकर लगाने से गठिया ठीक हो सकता है। यही नहीं मधुमक्खी के रायल जेली की मदद से एड्स जैसी घातक बीमारियों के साथ ही सेक्सुअल मेडिसिन भी तैयार की जाती है।

Q.रानी मधुमक्खी कितने अंडे देती है?

Ans.इसका काम केवल अंडा देना ही है आवश्यकता होने पर एक दिन में 1500 अंडे भी दे सकती है । रानी की आयु 2- 3 वर्ष तक होती है । नर मधुमक्खी :- इसका काम केवल रानी को गर्भधान करना होता है ।

Q.क्या मधुमक्खी काटने के बाद मर जाती है?

Ans.मधुमक्खी अगर डंक मार दे तो उस जगह पर सूजन तो आ ही जाती है साथ ही तेज दर्द भी शुरु हो जाता है, कई बार तो दर्द और जहर के प्रभाव से बुखार भी हो जाता है पर आपको बता दें कि मधुमक्खी या दूसरे कीट नुकसान पहुँचाने के लिए नहीं बल्कि आत्मरक्षा में डंक मारते हैं या काटते हैं, मधुमक्खियों के डंक में जहर होता है जिससे शरीर में

Q.मधुमक्खी पालन की आधुनिक विधि का आविष्कार कब हुआ?

Ans.मध्य प्रदेश में मध्यपाषाण काल की शिला चित्रकारी में मधु संग्रह गतिविधियों को दर्शाया गया हैं। हालांकि भारत में मधुमक्खी पालन की वैज्ञानिक पद्धतियां १९वीं सदी के अंत में ही शुरू हुईं, पर मधुमक्खियों को पालना और उनके युद्ध में इस्तेमाल करने के अभिलेख १९वीं शताब्दी की शुरुआत से देखे गए हैं।

Q.मधुमक्खी पालन शुरू करने के लिए सबसे अच्छा समय कौन सा होता है?

Ans. अक्टूबर-नवंबरहरियाणा में मधुमक्खी पालन शुरू करने का सबसे उचित समय है। इस समय में फूल अधिक संख्या में मिलते हैं। फरवरी-मार्च तक फूलों की संख्या अधिक होती है इससे मधुमक्खी की संख्या में बढ़ोत्तरी होती है।

Q.मधुमक्खी पालन की शुरुआत कैसे करें?

Ans.प्रशिक्षण एवं व्यवहारिक ज्ञान प्राप्त करें (Get Training of Honey Bee Farming) …
मधुमक्खी पालन के लिए साईट का चयन करें …
उपकरण बनवाएं या खरीदें (Tools for Honey bee Farming) …
परागण का प्रबंध करें …
मधुमक्खियों एवं उत्पाद को कीट एवं रोगों से मुक्त रखें

Q.मधु उत्पादन के लिए प्रयुक्त मधुमक्खी में कौन से ऐच्छिक गुण होने चाहिए?

Ans.मधुमक्खी में मधु उत्पादन क्षमता अधिक होनी चाहिए। 2) वह मधुमक्खी जो कम डंक मारे, जिससे मधु प्राप्त करना सरल हो। 3) अपने निर्धारित छत्ते में काफी समय तक रहे। 4) जिनका संकरण अच्छा हो

Q.मधुमक्खी के डंक में कौन सा अम्ल होता है?

Ans.फॉर्मिक अम्ल की संरचना फॉर्मिक अम्ल एक कार्बनिक यौगिक है। यह लाल चींटियों, शहद की मक्खियों, बिच्छू तथा बर्रों के डंकों में पाया जाता है। इन कीड़ों के काटने या डंक मारने पर थोड़ा अम्ल शरीर में प्रविष्ट हो जाता है, जिससे वह स्थान फूल जाता है और दर्द करने लगता है।